बस यही सोचके Bas Yehi Sochke Lyrics in Hindi from Unns Love Forever (2006)

Bas Yehi Sochke Lyrics in Hindi. बस यही सोचके song from Unns Love Forever 2006. It stars Juhi Babbar, Charlie, Chitrapama, Sanjay Kapoor. Singer of Bas Yehi Sochke is Abhijeet Bhattacharya. Lyrics are written by Shaheen Iqbal Music is given by Sujeet Shetty

  • Song Name : Bas Yehi Sochke
  • Album / Movie : Unns Love Forever 2006
  • Star Cast : Juhi Babbar, Charlie, Chitrapama, Sanjay Kapoor
  • Singer : Abhijeet Bhattacharya
  • Music Director : Sujeet Shetty
  • Lyrics by : Shaheen Iqbal
  • Music Label : Das Music

Bas Yehi Sochke Lyrics in Hindi :

बस यही सोच के खामोश मैं रह जाता हु
बस यही सोच के खामोश मैं रह जाता हु
के किसी रोज तोह इस बारे में तुम सोचोगी
मैं तुम्हे देख के क्यूँ ऐसे मचल जाता हु
जगमगा उठती है क्यूँ मेरी निगाहें एकदम
मैं हमेशा इसी जानिब क्यों चला आता हूँ
कुछ तोह कहना है मुझे
कुछ तोह कहना है मुझे
मुझसे तुम खुद ही इशारों से कभी पूछोगी
बस यही सोच के खामोश मैं रह जाता हु

बस यही सोचके खामोश मैं रह जाता हु
के अगर हौसला करके मैं तुम्हे केह भी दू
तोह कहीं टूट न जाए यह भरम करता हु
जिसने मासूम बनाया है तुम्हारे दिल को
जिसके साये में तुम्हे अपना कहा करता हूँ
यह भरम ग़म के धुए में न कहीं खो जाए
यह भरम ग़म के धुए में न कहीं खो जाए
दिल के जज़्बों की न तौहिन कहीं हो जाए
बस यही सोचके खामोश मैं रह जाता हु

यु अगर सुन भी लिया तुमने मेरी बातों को
थाम भी लोगी चलो मन मेरे हाथो को
अपनी आँखों के सितारो से जगाओगी मुझे
अपनी आगोश की खुशबु में बसाओगी मुझे
और जब तुम मेरी पहचान सी बन जाओगी
जान कह कह के मेरी जान सी बन जाओगी
लोग आ जायेंगे फिर बिच में लेकर रश्मे
मुझसे गुमराह करेंगे तुम्हे करके बस में
यह भी हो सकता है दुनिया से तुम तकरा जाओ
यह भी हो सकता है रुस्वाई से घबरा जाओ
और मुमकिन है के नजरो से गिरा दो मुझको
तुम हमेशा के लिए दर्द बना दो मुझको
बस यही सोच के खामोश मैं रह जाता हु.

Bas Yehi Sochke Lyrics in English :

Bas yahi soch ke khamosh main reh jaata hu
Bas yahi soch ke khamosh main reh jaata hu
Ke kisi roj toh iss baare me tum sochogi
Main tumhe dekh ke kyun aise machal jaata hu
Jagmaga uthatee hai kyun meri nigahein ekdam
Main hamesha isi janib kyun chala aata hu
Kuchh toh kehna hai mujhe, baat koi toh hogi
Kuchh toh kehna hai mujhe, baat koi toh hogi
Mujhse tum khud hi isharo se kabhi puchhogi
Bas yahi soch ke khamosh main reh jaata hu

Bas yahi sochke khamosh main reh jaata hu
Ke agar hausala karke main tumhe keh bhi du
Toh kahin toot na jaaye yeh bharam karta hu
Jisne masum banaya hai tumhare dil ko
Jiske saaye mein tumhe apna kaha karata hu
Yeh bharam gham ke dhue mein na kahin kho jaaye
Yeh bharam gham ke dhue mein na kahin kho jaaye
Dil ke jazbon ki na tauhin kahin ho jaaye
Bas yahi sochke khamosh main reh jaata hu

Yu agar sun bhi liya tumne meri baato ko
Thaam bhi logi chalo mana mere hatho ko
Apni aankho ke sitaro se jagaaogi mujhe
Apni aagosh ki khushbu mein basaaogi mujhe
Aur jab tum meri pehchan si ban jaaogi
Jaan keh keh ke meri jaan si ban jaaogi
Log aa jaayenge phir bich me lekar rashme
Mujhse gumraah karenge tumhe karke bas me
Yeh bhi ho sakta hai duniya se tum takara jaao
Yeh bhi ho sakta hai ruswaai se ghabra jaao
Aur mumkin hai ke najaro se gira do mujhko
Tum hamesha ke liye dard bana do mujhko
Bas yahi soch ke khamosh main reh jaata hu.