ये प्यार का ज़माना Ye Pyar Ka Zamana Lyrics in Hindi from Jawahar (1960)

Ye Pyar Ka Zamana Lyrics in Hindi. ये प्यार का ज़माना song from Jawahar 1960. It stars null. Singer of Ye Pyar Ka Zamana is Dwijen Mukherjee, Lata Mangeshkar. Lyrics are written by Prem Dhawan Music is given by Salil Chowdhury

  • Song Name : Ye Pyar Ka Zamana
  • Album / Movie : Jawahar 1960
  • Star Cast : null
  • Singer : Dwijen Mukherjee, Lata Mangeshkar
  • Music Director : Salil Chowdhury
  • Lyrics by : Prem Dhawan
  • Music Label : Saregama

Ye Pyar Ka Zamana Lyrics in Hindi :

ये प्यार का ज़माना ये कैसा है ज़माना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना ये कैसा है ज़माना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना

ये राश भरे होंठ तेरे पत्तियाँ गुलाब की
ये राश भरे होंठ तेरे पत्तियाँ गुलाब की
ये अंखिया जिन्होंने दिल की दुनिआ ख़राब की
हम दिल से बेगाने दिल हमसे बेगाना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना ये कैसा है ज़माना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना

ढूंढ़ती है तुझे मेरी आँखे
चाँद तारो में
ढूंढ़ती है तुझे मेरी आँखे
चाँद तारो में तेरे जैसा फूल कोई
देखा न बहारों में
मै तेरी ही कहानी तेरा ही फ़साना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना ये कैसा है ज़माना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना

जाने कहा मंज़िल है दिल ए बेक़रार की
जाने कहा मंज़िल है दिल ए बेक़रार की
जहाँ रुक जाये वही दुनिया है प्यार की
है ठोकर में हमारी ज़माने का ज़माना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना ये कैसा है ज़माना
तुम ही कहो कैसे न हो कोई दीवाना
ये प्यार का ज़माना.

Ye Pyar Ka Zamana Lyrics in English :

Ye pyar ka zamana ye kaisa hai zamana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana ye kaisa hai zamana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana

Ye rash bhare hoth tere pattiya gulab ki
Ye rash bhare hoth tere pattiya gulab ki
Ye ankhiya jinhone dil ki dunia kharab ki
Hum dil se begane dil hamse begana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana ye kaisa hai zamana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana

Dhundti hai tujhe meri aankhe
Chand taro me
Dhundti hai tujhe meri aankhe
Chand taro me tere jaisa phul koi
Dekha na baharo me
Mai teri hi kahani tera hi fasana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana ye kaisa hai zamana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana

Jane kaha manzil hai dil e bekarar ki
Jane kaha manzil hai dil e bekarar ki
Jaha ruk jaye wahi duniya hai pyar ki
Hai thokar me hamari zamane ka zamana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana ye kaisa hai zamana
Tum hi kaho kaise na ho koi diwana
Ye pyar ka zamana.